एकदम हिंदी को खत्मे कर दीजिएगा क्या?’

मुख्यमंत्री ने कहा, डिस्प्ले बोर्ड पर क्या निर्देश लिखे हैं? ये बेकार हैं और इसलिए इसे जल्द ही सुधार लें। सभी निर्देश हिंदी में लिखे जाने चाहिए। उन्होंने अध्यक्ष से कहा, ”डिस्प्ले बोर्ड पर ई का क्या लिखे हुए हैं… ऑनरेबुल लिख दिए हैं। इसका क्या मतलब है साहब? ई स्पीकिंग टाइम लिखा हुआ है…. ई सब का क्या अर्थ है? बिहार में इस तरह से क्यों लिखते हैं। काहे के लिए चलवाए हैं इ सब, फालतू चीज है… इसको ठीक कराइए। सब हिन्दी में रहना चाहिए।” उन्होंने डिस्प्ले की ओर इशारा करते हुए कहा, ”देखिए न, फिर अंग्रेजी में ही लिखे हुए हैं। एकदम हिंदी को खत्मे कर दीजिएगा क्या? बताइए, इ सब ठीक कराइए।” इसके बाद अध्यक्ष ठाकुर ने मुख्यमंत्री को आश्वासन दिया कि तत्काल बोर्ड बदला जाएगा।

किसान की ‘अंग्रेजी’ पर भड़के थे नीतीश
कुछ हफ्ते पहले पटना के बापू सभागार में किसानों की सभा के दौरान  नाराज हो गए थे। उस समय एक किसान अंग्रेजी में फसलों की विशेषताओं का वर्णन कर रहा था, इस पर नीतीश कुमार ने उसे टोक दिया और हिंदी में बोलने को कहा। सीएम नीतीश ने किसान से पूछ डाला कि वह इंग्लैंड में रहता है क्या। नीतीश ने कहा कि ये इंग्लैंड नहीं बल्कि बिहार है, अपने राज्य की भाषा हिंदी में बोलिए। इस दौरान किसान मुख्यमंत्री से क्षमा याचना करता रहा।