मोहन यादव के शासन में रेत माफिया बेखौफ, अधिकारियों को दी खुली चुनौती

मध्य प्रदेश में रेत माफिया कितना बेखौफ हो गया है, ये पन्ना जिले में  देखने को मिला. पन्न जिले के केन नदी में अवैध खनन करने वाले रेत माफियाओं पर प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की. बड़े पैमाने पर उनकी मशीनें और गाड़ियां जब्त कर ली, लेकिन कुछ ही घंटों में दर्जनों गाड़ियों में सवार होकर स्थानीय माफियाओं के गुंडे विभागीय कार्यालय पहुंचे और अधिकारियों से जब्त किए गए ट्रक, डंपर, एलएनटी मशीनें छीन ले गए. इस दौरान प्रशासन बस बेबस और लाचार होकर सिर्फ देखता रहा गया.

शुक्रवार, 17 मई को पन्ना में माफिया के सामने प्रशासन बेबस और लाचार दिखा. बता दें कि पन्ना और छतरपुर जिले की सीमा से बहने वाली अजयगढ़ स्थित केन नदी में व्यापक तौर पर अवैध खनन किया जाता है. केन नदी के पानी के बहाव को रोककर और नदी के अंदर अवैध अस्थाई पुल बनाकर माफिया नदी की सीना छलनी कर अवैध रेत उत्खनन करते हैं.

5 LNT मशीन और 25 ट्रक और डंपर किए गए थे जब्त

अब तक पन्ना में रेत घाटों के ठेके किसी को अलॉट नहीं किए गए हैं और नदी के दूसरी ओर छतरपुर जिले में ठेका एक जानी-मानी कंपनी के नाम है, लेकिन दबंग नदी की मजधार को पार कर पन्ना की सीमा में घुस कर अवैध उत्खनन कर रहे हैं.

वहीं अवैध खनन की सूचना मिलने पर कल तड़के अजयगढ़ क्षेत्र के एसडीएम कुशल सिंह गौतम, अपने तहसीलदार, RI, पटवारी की लेकर दबिश देने पहुंचे थे, जहां अजयगढ़ थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले बीरा पुल के पास एसडीएम ने अवैध खनन होते पाया. जहां 6 एलएनटी मशीनों से पन्ना की सीमा में रेत का खनन हो रहा था.

25 से 30 ट्रक और डंपर भी खड़े थे. एसडीएम अजयगढ़ कुशल सिंह गौतम ने सुबह तक 5 LNT मशीन और 25 ट्रक और डंपर जब्त किए.

20 ट्रकों को लेकर भागने में सफल हुआ रेत माफिया

विवाद की स्थिति देखते हुए सुरक्षा के लिए पुलिस बल भी मौके पर मौजूद था. SDM के अनुसार कार्रवाई के बाद कागजी काम तहसीलदार और अन्य कर्मचारी कर रहे थे. पन्ना किसी मीटिंग के लिए SDM रवाना हो गए. कुछ देर बाद तहसीलदार का फोन SDM के पास आया कि लगभग 15 वाहनों में माफिया के लोग आए और 20 ट्रकों को ले गए. यह भी बताया गया कि यह क्षेत्र हिनौता थाना क्षेत्र जिला छतरपुर में आता है, इसलिए वहां जब्ती की कारवाई होगी. बता दें कि इसका परिणाम ये हुआ कि ये गाड़िया भागने में सफल हो गईं और प्रशासनिक अधिकारी सिर्फ देखते रह गए.